फ़िल्म समीक्षा "बाज़ार" By:- डॉ. शंकर प्रसाद (फिल्म समीक्षक) - ApnaLive.News

फ़िल्म समीक्षा “बाज़ार” By:- डॉ. शंकर प्रसाद (फिल्म समीक्षक)

Spread the love

बॉलीवुड…“बाज़ार” फ़िल्म समीक्षा By डॉ. शंकर प्रसाद (फ़िल्म क्रिटिक्स):
हमेशा की तरह लेखक किसी नई कहानियों में उलझा रहता है .कभी सेक्स कभी बलात्कार कभी हिंसा, अवैध संबंध कारपोरेट ,धंधा ,बॉस गिरी ,नेतागिरी, किसी एक को चुन कर और कभी भी बॉक्स ऑफिस पर धूम मचा लेता है .इस बार .की बारी है शेयर मार्केट की:-

 निर्देशक गौरव के. चावला की नई फिल्म “बाजार” कई मामले मेें थ्रीलर के मोहक जाल को बताने की कोशिश करता है कलाकारों के चयन  बहुत अच्छी है तो कई नए चेहरे को भी मौका मिली है. विनोद मेहरा के पुत्र अपनी पहली फिल्म में रिजवान अहमद बने हैं. उनका नाम है रोहन मेहरा राधिका आप्टे प्रिया राय हैं और चित्र गधा सिंह मंदिरा कोठारी बनी है इसके साथ डेंजिल स्मिथ नवाब के दुश्मन सौरभ शुक्ला (मोटा) अनुप्रिया गोयंका नवाब की बहन के रूप में और अंतराम एक नृत्य के लिए रखी गई हैं पटकथा और कहानी तैयार की गई है निखिल आडवाणी परवेज शेख और असीम अरोड़ा ने संगीत की जिम्मेदारी ली है. तनिष्क बागची और” यो यो हनी सिंह” की है सिनेमा की बात करें स्वप्निल सोनावाने और संपादक माहिर जावेरी और अर्जुन श्रीवास्तव एक्सो लगभग 140 मिनट कि सिनेमा है और सैफ अली यानी नवाब यानी शकुन कोठारी शेयर मार्केट के कारोबारी हैं बैंक ड्राफ्ट में गुजरात और उसके कई नामी शहर है अब कोठारी यानी नवाब गुजराती ऐश्वर्या और अय्याशी का भरपूर मजा है उनकी पत्नी यानी मंदिरा कोठारी और प्रेमिका है राधिका आप्टे यानी प्रिया राय नवाबों की जिंदगी में जहां शेयर मार्केट का बोलबाला है वही इन दो आलीशान औरतों के बीच उनकी भागती हुई अय्याशी जिंदगी की खेल  भी हैं रिजवान अहमद की बात करें यानी रोहन मेहरा इस खेल के प्रमुख पात्र हैं और इन इश्क के त्रिभुज को धारदार बनाते हैं रेस में सेट की जो भूमिका है खतरनाक खेल के रूप में उससे अधिक खतरनाक वे यहां लगते हैं मार्केट की भागदौड़ प्रेम का चक्कर ऐय्याश बीबी और बीच में एक नौजवान फिल्म को कभी रचनात्मक देता है पटकथा में सेक्स, शराब ,अय्याशी ,शेयर मार्केट के दांव पर और मामला अंडरवर्ल्ड का कुल मिलाकर भरपूर मस्ती वाली सिनेमा है अधूरा लव ऊ ला ला ला छोड़ दिया है जैसे गीत पूरी  प्रत्येक अभिनेता ने अपनी भूमिका के साथ बहुत अच्छा अन्याय किया है चित्र गधा और राधिका का सेक्सी अवतार भी बहुत महत्वपूर्ण है ।

इस फ़िल्म को तीन सितारे (***) दी जाती है उम्मीद है आपको मेरी फिल्म समीक्षा पसंद आई हो अपना कॉमेंट हमे जरूर दे।

Written by Dr. Shankar Prasad (Film Critics), ApnaLive.News

3 thoughts on “फ़िल्म समीक्षा “बाज़ार” By:- डॉ. शंकर प्रसाद (फिल्म समीक्षक)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *